Error message

Notice: Undefined offset: 1 in counter_get_browser() (line 70 of /home/kbcnewsi/public_html/sites/all/modules/counter/counter.lib.inc).

कटिहार मे काली पूजा 2018 का सर्वश्रेठ पंडाल कौन सा है ?

सेन्ट्रल कॉलोनी काली पूजा कमिटी, ओ० टी० पाड़ा
33% (1343 votes)
J.T.S क्लब, ओ० टी० पाड़ा
41% (1659 votes)
I.N.Y.A क्लब, SIMULTALLA
19% (768 votes)
न्यू अंजली क्लब, लोहिया नगर
7% (266 votes)
Total votes: 4036

वाइएफए द्वारा स्वास्थ्य जांच शिविर आयोजित,सैकड़ो रोगियांे के स्वास्थ्य की की गई निःशुल्क जांच

कटिहार की जानी मानी सामाजिक संस्था वाइएफए के द्वारा नया टोला स्थित अपने अस्पताल में एक निःशुल्क स्वास्थ्य जांच शिविर का आयोजन किया गया। इस स्वास्थ्य जांच शिविर में जहां एक ओर पटना इंदिरा गांधी इंस्टिच्युट के प्रसिद्ध कार्डियोलाॅजिस्ट डा0 कुणाल कृष्णा द्वारा शिविर में मौजूद सभी रोगियांे के हृदय की जांच की गई वहीं दूसरी ओर पटना के ही महावीर कैंसर अस्पताल की प्रसिद्ध विशेषज्ञ डा0 कंचन सिंह के द्वारा महिलाआंे में होनेवाले संभावित कैंसर रोग को लेकर भी शिविर में मौजूद सभी लेागांे की सघन जांच की गई। इस शिविर के दौरान मधुमेह और थायराइड जैसे खून जांच को भी निःश्ुाल्क किया गया। इस शिविर का कुल 65 लेा

आजमनगर के सिंघैाल गांव में आग लगने से चार घर जलकर हुए खाक,रेडक्राॅस द्वारा किए गए फैमिली किट का वितरण

पिछले दिनांे 8 नवंबर को आजमनगर प्रखंड की सिंघौल पंचायत के शिशटोला बेलवारी गांव के चार घर में आग लग गयी थी। जिससे यहां के चारो घर जलकर पूरी तरह राख हो गए थे। इन चारो पीड़ित परिवारांे को राहत सामग्री देने के लिए आज सबसे पहले रेडक्राॅस सोसायटी के सदस्य सिंघौल गांव पहुंचे। इस टीम के साथ के एमएलसी अशोक अग्रवाल भी मौजूद थे। रेडक्राॅस के द्वारा चारो पीड़ित परिवारांे के बीच एक एक फेमिली किट का वितरण किया गया। गौरतलब है की रेडक्राॅस द्वारा दी जानेवाली इस फेमिली किट में बर्तन और कपड़े से लेकर घर के काम आने वाली लगभग सभी सामग्री शामिल होती है।

कल शरीफगंज में होगा एक विशाल जलसे का आयोजन,बड़े बड़े मौलाना करेंगे इस जलसे में शिरकत

कल 15 नवंबर को शरीफगंज में एक विशाल जलसा शम्मे रिशालत का आयोजन होने जा रहा है। यूथ इस्लामिया कमिटी के द्वारा 12वी शरीफ के अवसर पर आयोजित किए जा रहे इस जलसे में देश के नामी गिरामी मौलाना शामिल होंगे जो तकरीर पढ़ने के साथ साथ संस्कृत में प्रवचन भी देंगे। जलसे में शामिल होनेवाले मौलनाओ में बरेली के मौलना सगीर अहमद जोखनपुर, धनबाद के मौलाना अलाउद्दीन चर्तुवेदी, कोलकत्ता के मौलाना नायाब और मंजर, तथा गया के जाकिर हुसैन प्रमुख हेैं। इस जलसे में विशिष्ट मेहमानांे के तौर पर सासंद तारिक अनवर, एमएलसी अशेाक अग्रवाल, पूर्व शिक्षा मंत्री डा0 रामप्रकाष महतो, पूर्व कमिश्नर ललन जी, मेयर विजय सिंह और डिप्टी मे

वार्ड न0 45 के निवासी कन्हैया कुमार के घर में लगी आग,पूरा घर जलकर हुआ राख

आज सुबह जब लोग प्रातःकालीन अघ्र्यदान करने के लिए छठ घाट पर गए थे तो उसी समय वार्ड न0 45 के पड़तैली में रहने वाले कन्हैया साह के घर में आग लग गयी। घर और मोहल्ला सुनसान होने के कारण आग ने देखते ही देखते भीषण रूप धारण कर लिया और घर को पूरी तरह जलाकर राख कर दिया। मोहल्ले के किसी व्यक्ति ने जब कन्हैया साह के घर में आग लगी हुई देखी तो उसने तुंरत इसकी सूचना घाट पर गए हुए कन्हैया साह को दी। सूचना मिलते ही कन्हैया साह तुंरत घर लौटे लेकिन तब तक काफी देर हो चुकी थी। घर और घर में रखा सारा सामान पूरी तरह जल चुका था। घर की मालिक कन्हैया साह की पत्नि आंगनबाड़ी में सेविका का काम करती है। कन्हैया साह ने बताय

शहर के सैकड़ो कृत्रिम घाटो में भी धुमधाम के साथ मनाया गया छठ महापर्व,लाखो छठवर्तियो ने उगते सूर्य को दिया अर्धदान

छठ पर्व मानने वाले श्रद्धालुआंे की संख्या में गुणात्मक वृद्धि होने के कारण शहर के सभी छठ घाटो पर भारी भीड़ होने लगी है। इसलिये शहर में इन छठ घाटो के अलावा कइ मोहल्ल्ेा के लेाग कृत्रिम घाट बनाकर भी छठ पूजा करते है। ऐसे कृत्रिम घाटो की संख्या भी सैकड़ो में होती है। इसीक्रम में आज भी हजारांे छठव्रतियांे ने इन कृत्रिम घाटो पर छठ पूजा की चैथेे चरण के रूप में उगते हुए भगवान सूर्य को अघ्र्यदान किया। ऐसे कृत्रिम घाटो में रेलवे न्यू कालोनी के विद्रोही कलब द्वारा बनाया गया कृत्रिम घाट, तेजा टोला कृत्रिम घाट और ओटी पाड़ा के लेागांे द्वारा बनाया गया कृत्रिम घाट आदि प्रमुख है। इसके अलावा भ

कल 15 नवंबर को मनाया जाएगा गोपाष्ठमी का त्योहार, श्री कृष्ण गौशाला में लगेगा दो दिवसीय गोपाष्ठमी मेला

कल 15 नवंबर हैं,कार्तिक माह की शुक्ल पक्ष की अष्टमी। इस तिथि को गौअष्टमी के रूप में मनाया जाता है। गौ अष्टमी के दिन गौ माता की पूजा करने का विधान हे। गौ अष्टमी को लोग गोपाष्टमी के नाम से भी जानते है। कल गोपाष्टमी के दिन कृष्ण गौशाला में दो दिवसीय एक भव्य मेला लगता है। कल लगने वाले इस भव्य मेले का पूरे कटिहार वासी लुत्फ उठायेंगे। कल के दिन लेाग गौशाला जाकर पहले गाय माता की पूजा अर्चना करते है और फिर गौशाला परिसर में अवस्थित राधा कृष्ण मंदिर में भगवान के दर्शन करते है। और उसके बाद उठाते है मेले का भरपूर लुत्फ। इस मेले केा लेकर श्री कृष्ण गौशाला कमिटी द्वारा कई तरह की तैयारियां की गयी है। चू

सूर्य उपासना का महापर्व छठ पुजा धुमधाम के साथ संपन्न,लाखो लाख लोगो ने उदयगामी सुर्य को अध्र्यदान देकर छठ मईया को किया नमन

आखिरकार आज 14 नवंबर को लेाक आस्था का महापर्व छठ सपंन्न हो ही गया। देश के करोड़ो लेागांे के साथ हमारे जिलेे के लाखांेलाख लेागांे ने भी इस महापर्व को पूरी श्रद्धाभाव एवं विधि विधान के साथ बड़ी ही उत्साह पूर्वक मनाया। आज सुबह पौ फटने के पहले ही शहर के सभी छठ घाटो पर लाखों लाख छठव्रती पूरी तैयारी के साथ पहुंच चुके थे। शहर के सभी छठ घाटों पर लोगांे का मेला सा लगा था। चाहे पुरुष हो या महिला बच्चे हो या बूढे़ सभी कोई इस महापर्व में उगते हुए भगवान सूर्य को अघ्र्यदान देने को बेताब नजर आ रहे थे। चाहे कारी कोशी घाट हो बालु घाट हो या ललियाही कुमानिया घाट, चाहे विजय बाबु पोखर घाट हो या बैगना घाट हो

बिएमपी और संतोषी घाट में भी उमड़ा श्रद्धालुओ का जनसैलाब ,छठमइया को नमन करते हुए लेागो ने उदयगामी भगवान सूर्य को किया अध्र्यदान

कटिहार शहर के उत्तर छेार पर अवस्थित कटिहार का बीएमपी घाट भी शहर का एक प्रमुख छठ घाट है। शहर के उत्तरी हिस्से में रहने वाले हजारांे छठव्रती यहां हर वर्ष पूजा करते हैं। आज 14 नवंबर को पौ फटने के पहले ही बड़ी संख्या में छठव्रती इस घाट पर जमा हो गये और जैसे ही भगवान सूर्य ने दर्शन देना प्रारंभ किया सभी छठव्रती बड़े विधि विधान के साथ भगवान सूर्य को अघ्र्यदान देकर इस महापर्व को संपन्न किया। उधर कटिहार के संतोषी घाट पर भी आज सवेरे हजारो छठव्रतियांे ने उगते हुए सूर्य को अघ्र्यदान देकर लोक आस्था के इस महापर्व को पूरे विधि विधान के साथ पूरा किया। यहां भी हजारों छठव्रती पौ फटने के पहले ही छठ घाट पर पहु

विजयबाबु पोखर घाट बैगनाघाट और तिनगछिया काली घाट में छठ महापर्व धुमधाम के साथ संपन्न,प्रातकालिन अध्र्यदान मे भीं उमड़ी लेगो की भारी भीड़

कोशी नदी के बाद कटिहार का विजय बाबु पोखर घाट भी छठव्रतियों के लिये एक बड़ा और महत्वपूर्ण घाट माना जाता है। इस घाट पर भी छठव्रती पिछले हजारो दशकांे से छठ पूजा करने के लिये आते है। इस घाट पर भी छठव्रतियांे का मेला सा लगा था। आज 14 नवंबर की सुबह बड़ी संख्या में छठव्रती सूर्य के उदय होने का इंतजार कर रहे थे। जैसे ही नियत समय 6 बजे निश्चित समय पर पूरब दिशा में सूर्य की लालिमा छाने लगी लेागों ने उगते हुए भगवान सूर्य को अघ्र्य देना प्रारंभ कर दिया। विजय बाबु पोखर घाट के नजदीक ही अवस्थित बैगना घाट पर भी छठव्रतियांे की विशाल भीड़ थी। यहां भी तड़के सुबह से ही लेाग भगवान सूर्य के उदय होने का इंतजार कर

Pages

Subscribe to KbcNews RSS