Error message

Notice: Undefined offset: 1 in counter_get_browser() (line 70 of /home/kbcnewsi/public_html/sites/all/modules/counter/counter.lib.inc).

बैगना क्षेत्र में बाढ़ के जलस्तर का घटना जारी....

दो दिन पुर्व कटिहार के वार्ड न0 24 बैंगना में अचानक बाढ का पानी तेजी से भर गया था। अचानक आइ इस बाढ से बैंगना के लेागो में अफरा तफरी मच गइ थी। लोगो के घरो में पांच से 6 फिट तक पानी भर गया था लेकिन कल 18 अगस्त से बैंगना क्ष्ेात्र में बाढ के पानी का जलस्तरद घटना जारी हो गया है। आज सुबह इस क्षेत्र में बाढ का पानी लगभग 3 फिट चार फिट घट चुका था। आज सुबह इस क्षेत्र में मात्र ढेर से दो फिट पानी ही बचा था। जिस गती के साथ यहां बाढ के जलस्तर में कमी देखी जा रही हैं ऐसी संभावना जताइ जा रही है की आज शाम तक यहां लेागो के घरो तक से पानी पुरी तरह निकल जायेगा। बाढ के पानी के घट जाने से स्थानिय लेागो में काफ

कारी कोशी एवं ललियाही के जलस्तर में डेढ़ फिट बढ़ौतरी....

उधर प्राणपुर कदवा और आजमनगर में आइ बाढ के जलस्तर में कल से कमी देखी जा रही है। वही इधर कटिहार के ललियाही और कारीकोशी नदी में कोशी नदी के जलस्तर में लगातार वृद्धी देखी जा रही है। आज 18 अगस्त की ुसबह जब हमारी टिम ने इस क्षेत्र का दौरा कीया तो पिछले 24 घटो में इन दोनो स्थानो पर ढेर फिट पानी बढ चुका था। कारी कोशी का जलसतर आज 18 अगस्त को 6 बजे खतरे के निशान स मात्र15 सेंटीमिटर निचे तक पुहंच गया था जबकी कल 17 अगस्त की शम यह जलसतर खतरे के निशान से 45 सेंटीमिटर कम पर था। आइये चलते है हमारी टिम के साथ आज 18 अगस्त की सुबह ललियाह और कारी कोशी कि स्थिती का निरिक्षण करने के लिये। इधर केबिसी द्वारा कल लल

बैंगना के निकट रामपाड़ा मोहल्ले के पास अवस्थित नहर के बांध में कटाव प्रांरभ ...

बिती रात बैंगना के निकट रामपाडा मोहल्ले के पास अवस्थित नहर के बांध में कटाव प्रांरभ हो गया था। यह कटाव पानी के तेज करंट और नहर में जमा जलकुंभी के कारण से हुआ था। जैसे ही नहर के बांध का कटाव खत्म हुआ स्थानिय लेागो ने शोर मचाना प्ररंभ कीया। देखते ही देखते लेागो की भारी भीड़ जमा हो गइ। जेैसे ही जिलाधिकारी मिथिलेश कुमार मिश्र को इसबात की सुचना मिली वे आरक्षी अधिक्षक डा0 सिद्धाथ््रा मेहन जैन को साथ लेकर तुंरत घटनास्थल पर पुहंचे। लेाग काफी अका्रशित थे और तुंरत जलकंुभी साफ करने की मांग कर रहे थे। जिलाधिकारी मिथिलेश कुमार मिश्र एंव आरक्षी अधिक्षक सिद्धाथ्र मोहन जैन स्ंवय घटनास्थल पर पहुंचे और उनहोने

कटिहार से ट्रेनो का परिचालन पुरी तरह अस्त व्यस्त....

जब से पुरे क्षेत्र में बाढ आइ है तब से कटिहार से ट्रेनो का परिचालन भी पुरी तरह अस्त व्यस्त हो गया है। हांलाकी कटिहार रेल मार्ग के अधिकारीयो द्वारा आज 18 अगस्त तक कइ रेल मार्गो को दुरूस्त कर लिया गया है लेकिन इसके बावजुद कइ रेलखंड और रेल पुल अभी भी छतिग्रस्त है। रेल मंडल द्वारा लगातार कीये जा रहे कोशिशे का परिणाम यह हुआ की आज 18 अगस्त को कटिहार रायगंज का रेल मार्ग पुरी तरह दुरूसत कर लिया गया है। इसी को लेकर आज से दिल्ली जानेवाली सीमांचल एक्सप्रेस का परिचालन भी शुरू कर दिया है। अब कटिहार से दिल्ली के लिये आम्रपाली के अलावा सीमाचंल एक््रसपेस भी प्रारंभ हो गइ है। आज से यह समीचंल एक्स्रपेस रोजा

कोढ़ा और हसनगंज के प्रखंड में बाढ़ का बढ़ा प्रकोप....

इधर एकओर प्राणपुर आजमनगर ओर कदवा में आइ बाढ के जलस्तर में जहां कमी देखी जा रही है वही दुसरी ओर इस बाढ ने अब हसनगंज रमपरु एंव कोढ़ा आदी क्षेत्रो में प्रलय मचाना श्ुारू कर दिया है। पिछले 24 घंटो के अंदर हसनगंज एंव कोढा ्रपख्ंाड के कइ गांव में बाढ का पानी प्रवेश कर चुका है। यहां भी लेाग अपने अपने घेरो की छतो एंव सडक पर शरण लेने के लिये मजबुर हो गये है। कोढा के डुम्मर में बरंडी नदी में लगतार उफान देखा जा रहा है, बरंडी नदी का जलस्तर कल 17 अगस्त की शाम से ही खतरे की निशान से उपर बह रहा हक्। आज सुबह 6 बजे यह खतरे की निशान से 10 सेटीं मिटर उपर बह रहा था। हसनगंज प्रखंड का हाल जानने के लिये आज ह

मनिहारी क्षेत्र में भी बाढ़ की दशा हुइ और अधिक बदतर....

प्राणपुर कदवा एंव आजमनगर से बाढ के पानी का बहाव नारायणपुर मनिहारी और अमदाबाद की ओर जा रहा है। इस बहाव में काफी तेज करंट है। बाढ का यह पानी मनिहारी होते हुए गोवागाछी में जाकर गंगा नदी में मिल रहा ह।ै आज सुबह तक हमार ेसवंदादात ने मनिहारी और गोवागाछी में गंगा घट का निरिक्षण कीया तो इसबार गंगा नदी पुरी तरह श्ंात नजर आइ। गंगा का पानी समान्य स्तर से भी पांच फिट निचे था। गंगा की इस शांत स्थिती के बारे में जानकारो के कहना है की जिले में फिलहाल बाढ का सारा पानी अब इस ंगा में आसानी से समा जायेगा जिससे शहर क्षेत्र में बाढ के पानी के प्रवेश की कोइ संभावना नही है। अमाबाद के रामायणपुर में आज सुबह गंगा खत

पिछले 3 दिनो से कटिहार कलकत्ता के बिच रेल अवागमण पुरी तरह बंद

पिछले 3 दिनो से कटिहार कलकत्ता के बिच रेल अवागमण पुरी तरह बंद है। मनिया कोठी के निकट रेल पुल केक3 प्वांइट पर मरम्मती का कार्य युद्धस्तर पर कीया जा रहा है। आज 18 अगस्त की सुबह लगभग 11 बजे जब हमारी टिम ने इस स्थल का मुआयाना कीयात ो यहां रेल अधिकारीयो द्वारा मम्मती का कार्य लगातर जारी था। मरम्मती करने वाले अधिकारीयो एंव इजिनियरो की माने तो आज देर शाम तक इस पुल के मरम्मती कार्य को पुरा कर लिये जाने की संभावना है। अगर आज देर शाम तक भी मनिया कोठी का यह पुल ठिक हो जाता है तो आज या कल से कटिहार कलकत्ता के बिच रेल यातययात पुनः प्रारंभ हो जायेगा। उधर कटिहार सिल्ल्ीगुडी के बिच बाइसी दलकोला के निकट सडक

NDRD और SDRF के साथ सेना द्वारा भी किया जा रहा है यूद्धस्तर पर राहत कार्य

इस वर्ष जिले में आइ बाढ रूपी यह प्राकृतिक आपदा सही मायनो में एक बड़ी आपदा है। पुराने लेागो की माने तो पिछले पचास वर्षेा में भी लेागो ने बाढ का ऐसा प्रकोप नही झेला। इस बार तो बाढ के प्रकोप में 30 वर्ष पुर्व 1987 में आइ भयानक बाढ का भी रिकाॅर्ड तोड दिया है। ऐसी हालत में लेागो को बाढ ग्रस्त क्षेत्रो से निकलाल सृरक्षित स्थाने तक पुहंचाना ना सिर्फ जिलाप्रशसन के लिये बल्कि सेना और एनडीआरएफ कि टिमो के लिये भी एक बड़ी चुनौति है। इसके बावजुद जिला प्रशसन जिलाप्रान क ेसाथ सेना एंव एनडरआरएफ की टिम ने इस बडी चुनौति को स्वीकार करते हुए विभिन्न माध्यम से हजारो लेागो को अबतक सुरक्षित स्थानो तक पहुंचा दिया गय

कसबे के साथ छोटे गाँव देहात में भी खुले निजी शिविर

शहर तो शहर गांव गांव में भी लेागो द्वारा व्यक्तिगत स्तर पर बाढ पिडितो के लिये राहत कार्यक्रम चलाये जा रहे है। छोटी छोटी जगहो पर लोगो ने आपस में चंदा इकठठा कर बाढ पिडितो के लिये खना बनाना प्रारंभ्ज्ञ कर दिया है। आप देख सकते है आमजगनर के सालमारी बाजार का यह दृय जहां बाजार के लेागे आपस में चंदा इकटटा कर पिछले कइ दिनो से बाढ पिडितो के बिच भेाजन एंव अन्य समानो का वितरण कर रहे है।

जिले में राहत कार्य युद्धस्तर पर जारी

पिछले लगभग एक सप्ताह से जिले में बाढ़ हाहकार मचाए हुए है। जिले का एक बडा हिस्सा बाढ की चपेट में बर्बाद हो रहा है। चारो ओर हाहाकार मचा हुआ है। जिलाप्रशासन इस प्राकुति आपदा के प्रकोप से लेागो को बचाने के लिये जि जान से प्रयास कर रहा है। जिला प्रशसन द्वारा पुरे जिले में राहत कार्य को युद्धस्तर पर चलाया जा रहा है। स्वंय जिलाध्किरी मिथिलेश कुमार मिश्र एंव आरक्षी अधिक्षक डा0 सिद्धर्थ मोहन जैन से लेकर जिले का हर छोटा बडा अधिकारी और कर्मचारी जिलेवासियो को इस प्राकुतिक आपदा से बचाने के लिये जि जान से जुटा हुआ है। जिल प्रशासन द्वारा जिले में कइ स्थानो पर राहत श्वििर चलाये जा रहे है इन राहत शिविरों

Pages

Subscribe to KbcNews RSS